Corona tracker in Hindi |भारत में कोरोना वायरस के लिए ट्रैकर

Rate this post

Corona tracker : कोरोना वायरस जैसे खतरनाक बीमारी ने भारत को अपने गिरफ्त में कर लिया हैं। इस खतनाक बीमारी के वजह से बहुत लोगों ने अपनी जान गवाई। छोटे मासूम बच्चों के सर  से माता पिता का साया उठ गया। जिन लोगों ने अपना व्यापार शुरू किया उनका व्यापार भी इस कोरोना महामारी के कारण बंद हो गया। इस कोरोना महामारी में बहुत लोगों की जॉब जली गई।

इस बिमारी को बढ़ते हुए देखकर सरकार ने लॉकडाउन लगाने का फैसला लिया। लॉकडाउन लगने के कारण यातायात की साधन बंद हो गई। गरीब लोगों को अपने घर पैदल ही जाना पड़ा। जिसमें से कुछ लोग तो अपने स्थान पर पहुंचने में ना कामयाब रहे। इस तरह की स्थिति देखने के बाद सरकार ने इस बिमारी से लड़ने का फैसला किया। आम आदमी जो इस बिमारी के कारण बहुत सारी परेशानियों का सामना कर रहा हैं। वह इस खतरनाक बिमारी से मुक्त हो पाए।

यह भी पढ़े : विटामिन C के स्रोत और इसके फायदे

Corona tracker in Hindi |भारत में कोरोना वायरस के लिए ट्रैकर

Corona tracker 1
Corona tracker

भारत के विज्ञान ने बढ़ते हुए कोरोना वायरस को रूकने के लिए वैक्सीन का निर्माण किया। कोरोना वायरस के खिलाफ वैक्सीन लागने की  शुरुआत पूरे भारत में हो गई हैं। वैक्सीन लगने के बाद से कोरोना  वायरस की बढ़ने की शक्ति कम हो गई हैं। Corona tracker

वैक्सीन लगने के बाद से मरने वालों की आकड़ा बेहद कम होते हुए नजर आई। बल्कि अब जिन लोगों को वैक्सीन का टीकाकरण लगाना होता हैं वह अपने एंड्रॉयड फोन से ही घर बैठे रजिस्ट्रेशन करवा सकते है। रजिस्ट्रेशन होने के बाद आपके फोन पर वैक्सीन रजिस्ट्रेशन नंबर और वैक्सीनेशन सेंटर का पता मैसेज के द्वारा आता हैं। आप अपनी वैक्सीन का स्टेटस घर बैठे जान सकते हैं।

Corona tracker 2
Corona tracker

कोविड से संबंधित सारी जानकारी इंटरनेट पर उपलब्ध रहती हैं। किस दिन आपको वैक्सीन का टीकाकरण लग सकता है ये सारी जानकारी भी इटंरनेट पर मौजूद रहते हैं। आस पास का वैक्सीन सेंटर कहाँ उपलब्ध  हैं इनकी  जानकारी भी फोन से प्राप्त हो सकती हैं। आस पास कोई कोरोना का मरीज तो नहीं हैं इन बातों की  भी जानकारी आरोग्य सेतु एप्प से पता चल सकता हैं। Corona tracker

आरोग्य सेतु एप्प से इन जानकारी को जाने के लिए अपने एंड्रॉयड फोन में जाकर प्ले स्टोर से आरोग्य सेतु एप्प डाउनलोड करें।  स्वास्थ केन्द्र में भी वैक्सीन टीकाकरण लगाने का अभियान शुरू हो गया है। सरकार का कहना हैं कि वैक्सीन टीकाकरण लगाने के बाद आपके शरीर में फीवर आ सकती हैं। फीवर आने का यह मतलब है कि आपके शरीर में जो कोविड का सेल डाला गया हैं वह पूरी तरह आपके शरीर में रियेक्ट कर रहा हैं।

सरकार ने वैक्सीन टीकाकरण लगाने की उम्र 18से ऊपर की रखी हैं। जिसमें नौजवान और बच्चे आते है।  कोरोना वायरस बुढ़े लोगों के बाद बच्चों के लिए बहुत घातक बीमारी हैं। सरकार ने कोरोना वायरस से  संबंधित सारी जानकारी जाने के लिए एक वेबसाइट बनाई हैं। इस वेबसाइट  का नाम covid19.trackvaccines.org हैं। इस वेबसाइट की मदद से कोरोना वायरस से संबंधित सारी जानकारी प्राप्त कर सकते हैं। सरकार ने बढ़ती हुए कोविड वायरस से लोगों को बचाने के लिए बहुत तरीक़े का प्रयास कर रही हैं।

Corona tracker 3
Corona tracker

सरकार ने वैक्सीन टीकाकरण हॉस्पीटल में उपलब्ध करवाना शुरू कर दिया हैं। भारत में वैक्सीन का पहला डोज लगना भी शुरू हो गया हैं। 18साल से ऊपर के बच्चों को टीकाकरण लगया जा रहा हैं। इस टीकाकरण के बाद बच्चों की मौत कम हो रही हैं। जिस तरह से हम वैक्सीन का पहला डोज आरोग्य सेतु एप्प से रेजिस्ट्रेशन करवा कर लेते हैं। उसी तरह से दूसरा डोज भी आरोग्य सेतु एप्प के मदद ले सकते हैं।

मैं आशा करती हूँ की आपको मेरी यह आर्टिकल पसंद आई होगी , अगर आपको मेरी यह आर्टिकल पसंद आई है तो आप इसे लाइक करे और अपने दोस्तों , फॅमिली और ग्रुप में जरुर शेयर करे ताकि उन्हें भी इसकी जानकारी मिल सके |

धन्यवाद !!!

अस्वीकरण :- इस site पर उपलब्ध सभी जानकारी और लेख केवल शैक्षणिक उद्देश्यों के लिए है | यहाँ पर दी गयी जानकारी का उपयोग किसी भी स्वास्थ्य सम्बन्धी समस्या या बीमारी के निदान या उपचार हेतु बिना विशेषज्ञ की सलाह के नहीं किया जाना चाहिए | उपचार के लिए योग्य चिकित्सक का सलाह ले |

Leave a Comment